बुधवार, 12 जून 2013

नमो नमो...

.
.
.




जहाँ देखिये... जिधर देखिये... जिस भी किस्म के मीडिया में देखिये... चल रहा है बस 'नमो नमो'...

लगता है कि यह सब अनायास ही नहीं हो रहा... सुनियोजित तरीके से यह काम किया कराया जा रहा है... 

आज अपने दो सवाल हैं...



कौन इसे करा रहा है ?
किसको इस सब से फायदा मिलेगा ?


तो दौड़ाईये दिमाग... :)





...