मंगलवार, 10 मई 2011

एक छोटा सा सवाल जिसका जवाब देने के लिये आप से ईमानदारी बरतने की उम्मीद है !

.
.
.
अन्ना हजारे,
किरन बेदी,
अरविन्द केजरीवाल,
शाँति भूषण,
प्रशाँत भूषण,
स्वामी अग्निवेश,
बाबा रामदेव
और अन्य भी...

भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई का आज यह नेतृत्व कर रहे हैं... संभव है कि यह सभी लोग अपने निजी जीवन में ईमानदार भी हों... पर यहाँ सवाल उनका नहीं है... सवाल है उनके पीछे खड़े आप मुझ जैसे कॉमन-मैन का...

आँख बंद कीजिये... दिल से सोचिये और बताइये...


क्या हम एक ईमानदार कौम हैं ?




...






8 टिप्‍पणियां:

ajit gupta ने कहा…

हम एक ईमानदार व्‍यक्ति हैं, लेकिन कौम नहीं।

निर्मला कपिला ने कहा…

बिलकुल सही कहा। अक्सर ही आगे रहने वालों के आस पास ऐसे लोगों का शिकंजा कस जाता है जो उन्हें गुमराह करते रहते हैं और उनके पीछे चलने वाला समाज हम आप सब हैं। कितने चेहरे उनकी आढ मे ऐसे छुप जाते हैं। एक हमारे शहर के डाक्डर है उन्होंने 51000 रुपये ऐसे ही संस्थान को दान दिया लेकिन हम जानते हैं कि गरीब को किस तरह तंग करते हैं सरकारी अस्पताल मे भी जब तक वो फीस न दे उसे अपने ड्यूटी रूम मे ले जाकर तंग करते हैं। और जितने व्यवसायी लोग हैं वो कितने इमानदार है़ आखिर धन ऐसी संस्थाओं को भी वहीं से आता है। सब से पहले हम मे राष्ट्रीयता का बोध होना चाहिये तभी भ्रष्टाचार समाप्त होगा। धन्यवाद।

एम सिंह ने कहा…

सबके जागृत होने से ही बदलाव संभव है. जनता को ईमानदार रहना होगा, तभी बदलाव संभव है.

दुनाली पर स्वागत है-
कहानी हॉरर न्यूज़ चैनल्स की

रचना ने कहा…

i can vouch for myself

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

हम ईमानदार हैं या नहीं, पता नहीं पर बेईमान नहीं हैं।

अजय कुमार झा ने कहा…

उत्तर है .....हां हैं ..

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

हम एक बेईमान क़ौम हैं।
लाखों लोग व्यक्तिगत रूप से नेक और ईमानदार हो सकते हैं लेकिन हमारा कोई एक भी महानगर ऐसा नहीं है कि हम कह सकें कि उसके 70 फ़ीसदी लोग ईमानदार हैं। गांव-देहात में आज भी ईमानदारी पाई जा सकती है लेकिन आपने सवाल व्यक्ति के बारे में या गांव-मुहल्ले और जाति-संप्रदाय के बारे में नहीं बल्कि पूरे राष्ट्रीय चरित्र के बारे में पूछा है।
धन्यवाद !

डा० अमर कुमार ने कहा…

क़ौम के रूप में हम इमानदार नहीं कहे जा सकते ।
दर-असल इमानदारी एक साक्षेप नैतिकता है, सवाल यह है कि व्यक्ति अपने कर्तव्य और सामाजिक दायित्व के प्रति कितना इमानदार है ।