मंगलवार, 19 अप्रैल 2011

आज का सवाल : क्या आप भी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जी के बारे में इस धारणा से सहमत हैं ?

न्यूक्लियर डील पर हुऐ अविश्वास प्रस्ताव के दौरान सरकार बचाने के लिये धन के लेनदेन के विकीलीक्स उद्घाटन, कॉमनवेल्थ खेलों के दौरान हो रहे घोटालों की पूर्व में ही जानकारी होने के बाद भी कोई प्रभावी कार्यवाही न करना, अपनी नाक के नीचे 2G घोटाला यानी जनता के धन की सत्ता के दलालों व कॉर्पोरेट द्वारा दिनदहाड़े लूट होने देना, पी. जे. टॉमस को सीवीसी बनाने के लिये उनके पूर्व के पूरे रिकार्ड को दरकिनार करना व इस मसले पर सुप्रीम कोर्ट में भी अंत तक उनका बचाव करना...

यह सब देखने के बाद भी क्या आप यह मानते हैं कि हमारे प्रधानमंत्री एक ऐसे प्रधान मंत्री हैं जिनकी योग्यता व ईमानदारी पर कोई शक नहीं किया जा सकता है (Whose Ability & Integrity is beyond any doubt  ) ?





...

3 टिप्‍पणियां:

Shah Nawaz ने कहा…

मैं मनमोहन सिंह को भ्रष्ट नहीं मानता लेकिन, मुखिया के तौर पर पूरी ज़िम्मेदारी उनकी ही मानता हूँ... मेरा मानना है कि अच्छा इंसान वही है जो ना केवल बुराई से बचे बल्कि अपने साथ भी बुरा ना होने दे... फिर यहाँ तो पुरे देश का सवाल है.

Kavita Prasad ने कहा…

प्रधानमंत्री में देश का मंत्री होने के साथ-साथ देश का नेता होने के गुण भी विद्यमान होने चाहिए| चाहे वह स्वयं ब्रष्ट न हो परन्तु एक कमज़ोर मंत्री देश की जिमेदारियो और उन्नति के साथ न्याय नहीं कर सकता| सिर्फ अछे सुझाव ही देने हैं तो पद और भी हैं...

आभार एक जागरूक पोस्ट के लिए|

एम सिंह ने कहा…

पाप और पापी का साथ देने वाला खुद भी पापी ही होगा ना. यह बात और होती कि उन्हें इसका पता न होता, लेकिन ऐसा नहीं है. उन्हें सब पता है और वे जानबूझकर चुप हैं.

मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है
मीडिया की दशा और दिशा पर आंसू बहाएं