सोमवार, 16 दिसंबर 2013

एक बेहतरीन और निस्वार्थ साथी का असमय अंत... क्या आप भी मेरी तरह उसकी कमी महसूस करते हैं...

.
.
.




वह वाकई बेहतरीन और निस्वार्थ था... तकरीबन दो साल पहले यह पोस्ट (लिंक) भी लिखी थी उस पर मैंने... बीते १९ नवंबर को अचानक उस बेहतरीन साथी का असमय अंत हो गया... तभी से वह कोई नयी फीड नहीं ले रहा है... कारण क्या है, मुझे नहीं पता...

मुझे उसकी कमी बहुत खलती है...



क्या आप भी मेरी तरह उसकी कमी महसूस करते हैं ?




...


बुधवार, 12 जून 2013

नमो नमो...

.
.
.




जहाँ देखिये... जिधर देखिये... जिस भी किस्म के मीडिया में देखिये... चल रहा है बस 'नमो नमो'...

लगता है कि यह सब अनायास ही नहीं हो रहा... सुनियोजित तरीके से यह काम किया कराया जा रहा है... 

आज अपने दो सवाल हैं...



कौन इसे करा रहा है ?
किसको इस सब से फायदा मिलेगा ?


तो दौड़ाईये दिमाग... :)





...

शनिवार, 25 मई 2013

लंदन में ब्रिटिश सिपाही का सरेआम, बर्बर व पाशविक कत्ल : असली दुश्मन कौन है ?

.
.
.




हम वह पाशविकता झेल रहे हैं दशकों से कश्मीर में... जहाँ आये दिन आम शहरी सरकारी या भारतीय फौज के जासूस-खबरी कह गोलियों से भून दिये जाते हैं या कभी कभी सरेआम जिबह किये जाते हैं... भीड़ भरे बाजारों-जगहों पर धमाके किये जाते हैं... पर यह नजारा ब्रिटेन ने हाल ही में देखा... इस से पहले बोस्टन, अमेरिका में भी कुछ ऐसा ही हुआ...

दिमाग सवाल करता है कि कोई क्यों करता है यह सब... कौन है असली दुश्मन...

लेखिका जवाब दे रही हैं यहाँ पर (लिंक)... वह कहती हैं...


Some will rush to blame Muslims or Islam for what happened, but it's important to be clear and not to mince words.
Islam is not the enemy. Muslims are not the enemy. Terrorism is not the enemy.

फिर आगे वह कहती हैं...

The enemy is the radical Islamist ideology that justifies any atrocity committed for political motives. The enemies are the people who promote this dogma and encourage others to engage in actions that offend and assault our humanity -- and theirs.

वह चेताती हैं...

Their political/religious ideology has motivated killers in Madrid, London, Jerusalem, Tel Aviv, as well as Syria, Nigeria, Indonesia and Iraq. The creed that demands murder, sometimes murder-suicide, for perceived offenses against Islam and against Muslims constitutes a threat to societies at large, not just to Westerners and non-Muslims. In fact, a study finds that Muslims are its most numerous victims. 

वह यह भी बताती हैं...

Most Muslims strongly oppose this kind of brutality. But a recent Pew poll showed significant minorities favor actions such as suicide bombings "in defense of Islam." A troubling 29% of Egyptian Muslims say suicide bombings can be justified, so do 40% of Muslims in the Palestinian Territories, 15% in Jordan and 18% in Malaysia.

वह कहती हैं कि इस विचारधारा को हल्के में नहीं लिया जा सकता...

An important element in the fight against this pernicious, callous enemy is a campaign to undermine the ideology's appeal within Muslim communities everywhere.

इस दुश्मन से निबटने के लिये शाँति चाहने वाले अधिसंख्य मुस्लिमों को आगे आना होगा...

There is much work to do, particularly by the vast majority of Muslims who reject extremism, by their leaders who must be pressured by all of us to make the ironclad case that nothing, nothing in the world, justifies the kind of viciousness that assaulted our senses in London and has done so in too many places for too many years.

अपना सवाल सीधा सादा है आज भी...


क्या आप लेखिका से सहमत हैं ?




... 

रविवार, 12 मई 2013

किसकी किस्मत ज्यादा खराब थी... बकरी की या मंत्री की...

.
.
.



आप ही की तरह अपने को भी खबरें मीडिया से ही मिलती हैं... रेलगेट में भाँजे-भतीजे-बेटे-पत्नी यहाँ तक कि दामादों तक का भी नाम व हाथ सामने आने के बाद यह तो निश्चित था कि रेलमंत्री पवन बंसल अपनी कुर्सी नहीं बचा पायेंगे...

पर फिर भी उन्होंने हर यत्न किया... 


यहाँ तक कि कार्यालय जाने से पहले विशेष रूप से लाई गयी सफेद बकरी पर हाथ फेरा और उसे कुछ खिलाया भी... यह सब इसलिये कि मंत्रीपद बचा रहे...

टाइम्स ऑफ इंडिया एक वीडियो दिखा रहा है  Railway Minister Pawan Kumar Bansal was seen feeding a goat, which was reportedly sacrificed later.10 May 2013, 5:52PM IST (लिंक)

एक आम, लाचार, मजबूर और अपनी नियति से वाकिफ प्रजा होने के कारण मुझे न घूसखोरी से कोई शिकायत है न किसी के मंत्री बने रहने अथवा न रहने से...

मेरा तो सीधा सादा सवाल है कि...



किसकी किस्मत ज्यादा खराब थी... बकरी की या मंत्री की...?
आप कुछ कहना या बताना चाहेंगे ?






...

सोमवार, 6 मई 2013

क्या इससे साबित नहीं होता कि यह दोनों मुल्क दो जिस्म और एक जान हैं ?

.
.
.




कहने वालों के मुताबिक उनके पूरे मुल्क ने बाकायदा प्लानिंग बनाकर सरबजीत को जेल के अंदर मारा... कई कई दिन हम सबने गलियों, चौराहों, अखबारों, टीवी और नेट पर उस बेईमान पड़ोसी को कोसा और अपनी अच्छाई के लिये गाल बजाये...

और दो दिन भी नहीं बीते कि जम्मू जेल में सनाउल्लाह को मार दिया गया... वह वेंटीलेटर पर भले ही है पर बचने की कोई उम्मीद नहीं... और वह सियापा करने वाले-गाल बजाने वाले अब चुप हैं, सबको सांप सूंघ गया है...

खैर, जाने दीजिये...

पॉजीटिव देखिये...

क्या इन दो वाकयों से यह साबित नहीं होता कि यह दोनों मुल्क दो जिस्म और एक जान हैं ?
... :)





...

शनिवार, 23 मार्च 2013

संजय दत्त की सजा के बाद सजा माफी की मांग अपनी तो समझ में नहीं आती...

.
.
.


बीस साल बाद आखिरकार मु्ंबई बम धमाकों के मामले का आखिरी फैसला आया है सुप्रीम कोर्ट से... धमाकों के सिद्ध दोषियों द्वारा दी ए के-५६ रखने के इल्जाम में संजय दत्त को सुप्रीम कोर्ट ने ५ साल जेल की सजा सुनाई है...

सजा के तुरंत बाद से कई अलग अलग व्यक्तित्वों जिनमें प्रेस काउंसिल के चेयरमैन जस्टिस मार्कंडेय काटजू भी शामिल हैं के द्वारा यह माँग की गयी है कि धारा १६१ के तहत अपने विशेषाधिकारों का इस्तेमाल के महाराष्ट्र के राज्यपाल संजय दत्त की सजा माफ कर दें...

अपनी समझ में यह नहीं आता कि यह माँग क्यों उठ रही है... संजय दत्त दोषी हैं कि नहीं ?... क्यों एक इतना बड़ा राजनीतिक-सामाजिक-बुद्धिजीवी वर्ग उन्हें दोषी की बजाय हालात का मारा बना पेश कर रहा है.... यह इतना हंगामा-शोर आखिर क्यों भाई... क्यों रील लाइफ को रियल लाइफ से मिक्स किया जा रहा है...


आपको कुछ समझ में आता है क्या ?
बताइये जरा...




...

गुरुवार, 3 जनवरी 2013

Overkill of Section 509 of the IPC may kill too !!! Beware !!!

.
.
.






Read this LINK , please also go through ALL THE COMMENTS and decide on your own.

REMEMBER, It was a group of friends, who used to travel together daily by the same bus.

"You had to prove your innocence by killing yourself, No tears will be shed for you, nobody wiil have a candlelight vigil either... "

RIP Chandrakant !



What is your take on it ?




...